Saturday , July 22 2017 9:47 AM
Breaking News
Home / Breaking News / पुलिस अधिकारी ने किया खुलासा, शशिकला के लिए जेल में बना 2 करोड़ का किचन

पुलिस अधिकारी ने किया खुलासा, शशिकला के लिए जेल में बना 2 करोड़ का किचन

अर्ली न्यूज़/नई दिल्‍ली। एक पुलिस अधिकारी ने आरोप लगाया है कि बेंगलुरु की सेंट्रल जेल में सजा काट रही AIDMK प्रमुख शशिकला को वीवीआईपी सुविधाएं मिल रही हैं। अधिकारी के मुताबिक, जेल के कई सीनियर स्टाफ गैरकानूनी गतिविधियों की इजाजत दे रहे हैं। डीआईजी जेल डी रूपा ने बुधवार को आरोप लगाया कि सेंट्रल जेल का स्‍टॉफ शशिकला को वीआईपी ट्रीटमेंट दे रहा है।

डीआईजी जेल ने सीनियर डीआईजी को चिट्ठी लिखकर इस बारे में जानकारी दी है। हालांकि डीजीपी ने इन आरोपों से इंकार करते हुए कहा कि जहर के डर से खाना अलग से दिया जाता था, लेकिन कोई अलग से किचन नहीं बनाया गया है।

डी रूपा ने अपनी चिठ्ठी में लिखा है कि शशिकला ने स्पेशल किचन के लिए 2 करोड़ रुपये की डील की है और इस बात की जानकारी डीजीपी को थी। इस मामले में कर्नाटक के डीजीपी शामिल हैं। गौरतलब है कि शशिकला आय से अधिक संपत्ति मामले में बेंगलुरु की सेंट्रल जेल में चार साल की सजा काट रही हैं। 10 जुलाई को जेल निरीक्षण के बाद ही ये मामला सामने आया है।

रूपा ने अपने पत्र में यह भी लिखा है कि बीते 10 जुलाई को जिन 25 कैदियों का ड्रग टेस्ट हुआ, उनमें से 18 के नतीजे पॉजिटिव निकले. लेटर में उन लोगों के नाम और उनके शरीर में मौजूद ड्रग्स का जिक्र है। अधिकतर कैदियों के शरीर में गांजा के अंश मिलने की बात कही गई है. लेटर में कुछ खास मामलों का जिक्र है, जिनके मुताबक जेल के सीनियर अधिकारियों ने ऐक्शन नहीं लिया।

एक अन्‍य आरटीआई कार्यकर्ता से मिली जानकारी के मुताबिक एक महीने में शशिकला से 14 मौकों पर 28 लोगों ने बेंगलुरु सेंट्रल जेल में मुलाकात की। आरटीआई कार्यकर्ता नरसिम्हा मूर्ति ने इस पर आपत्ति जताते हुए इसे जेल मैनुएल का उल्‍लंघन बताया था। इस आरटीआई कर्यकर्ता के विरोध के बाद परपनाग्रहारा यानी बेंगलुरु सेंट्रल जेल प्रशासन ने सफाई दी।

दरअसल कर्नाटक जेल मैनुएल के मुताबिक विचाराधीन कैदी सप्‍ताह में दो बार अपने वकीलों या जान पहचान और रिश्तेदारों से मिल सकता है जबकि सजा काट रहा कैदी 15 दिन में दो बार ही मिल सकता है।

About Anand Gopal Chaturvedi

Group Editor / CMD Early News Group

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*