Saturday , December 16 2017 4:26 PM
Breaking News
Home / कारोबार / कोयले के खनन के लिए नीलामी प्रक्रिया जल्द

कोयले के खनन के लिए नीलामी प्रक्रिया जल्द

नई दिल्ली . आर्थिक मामलों की कैबिनेट कमेटी (सीसीईए) जल्द ही वाणिज्यिक खनन के लिए कोयला खदानों की नीलामी की प्रक्रिया पर निर्णय कर सकती है. यह जानकारी अधिकारिक सूत्रों ने दी है. इसके साथ ही व्यक्तिगत एरिया को कोयला खनन करके इसकी बिक्री करने की अनुमति दी जाएगी.

एक सूत्र ने पहचान सीक्रेट रखने की शर्त पर बताया कि सीसीईए कोयला खदानों की नीलामी के लिए पूरी पद्धति पर निर्णय करने वाली है. इस नीलामी में आवंटित खदानों से कोयला निकालकर बेचा जा सकेगा. इस समय गवर्नमेंट उद्योगों को खुद के प्रयोग के लिए कोयला खदानों का आवंटन करती है.सार्वजनिक एरिया की कंपनी कोल इंडिया लि के पास कोयले की खदान करके बिक्री करने का एकाधिकार है. नीलामी के जरिये कोयला खदानें आवंटित करने की पद्धति पर एक परामर्श लेटरसार्वजनिक किया गया था जिससे आम लोगों  सभी पक्षों से सुझाव मांगे जा सकें.

सरकार ने व्यक्तिगत एरिया के जरिये वाणिज्यिक उद्देश्य से कोयला खनन के लिए पांच-छह कोल ब्लॉक नीलाम करने की योजना बनाई है. कोयला मंत्री पीयूष गोयल ने कुछ समय पहले बोला था कि कोल माइन्स (स्पेशल प्रोवीजन) एक्ट 2015 के जरिये इसके लिए व्यवस्था की गई है. इसके तहत कोल ब्लॉकों की बिक्री खुली नीलामी के जरिये की जा सकेगी. वाणिज्यिक खनन के लिए खदानें आवंटित करते समय कोई निश्चित समय अवधि तय नहीं की जाती है. इसके तहत प्राइवेट कंपनियां ऊर्जा, सीमेंट  स्टील समेत किसी भी सेक्टर को कोयले की बिक्री कर सकती हैं.

सरकार वाणिज्यिक उद्देश्य से कोयला खनन में व्यक्तिगत एरिया को पहली बार अनुमति देने जा रही है. इसके साथ चार दशक पुरानी व्यवस्था समाप्त हो जाएगी जिसके तहत सिर्फ कोल इंडिया कोयले का खनन करके बिक्री कर सकती है. इसके जरिये गवर्नमेंट राष्ट्र में कोयले का उत्पादन बढ़ाना चाहती है ताकि आयात घटाया जा सके  राष्ट्र को आत्मनिर्भर बनाया जा सके.

About Anand Gopal Chaturvedi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*