Monday , July 16 2018 4:07 PM
Breaking News

अतिरिक्त कैच छोड़ना भी टीमों के लिए बहुत ज्यादा भारी पड़ता दिखाई दे रहा

क्रिकेट में खिलाड़ी कभी चमकते हैं तो कभी ऐसी गलती भी कर जाते हैं कि साथी खिलाड़ी की नाराजगी भी उन्हें झेलनी पड़ती है। इस समय टीमों के बीच प्लेऑफ में जाने के लिए जबर्दस्त मुकाबला चल रहा है। मैचों में न केवल नजदीकी परिणाम आ रहे हैं, बल्कि चौंकाने वाले परिणाम भी आ रहे हैं। कभी मैच हाई स्कोरिंग हो रहे हैं कभी लो स्कोरिंग। इसके अतिरिक्त कैच छोड़ना भी टीमों के लिए बहुत ज्यादा भारी पड़ता दिखाई दे रहा है।

Image result for अतिरिक्त कैच छोड़ना भी टीमों के लिए बहुत ज्यादा भारी पड़ता दिखाई दे रहा

कैच छोड़ने का एक वाक्या हुआ मुंबई व कोलकाता के बीच हुए एक मैच में जब एक खिलाड़ी ने कैच छोड़ा तो गेंदबाज की नाराजगी साफ दिखाई दी। दरअसल हुआ यह था कि जब मुंबई के दिए 182 रनों के लक्ष्य का पीछा कोलकाता की टीम कर रही थी, तो छठा ओवर हार्दिक पांड्या कर रहे थे। कोलकाता की टीम पांच ओवर के बाद, 2 विकेट पर 44 रन बना चुकी थी। क्रीज पर नितीश राणा के साथ रॉबिन उथप्पा मौजूद थे व उथप्पा को हार्दिक की गेदों का सामना करना था।

उथप्पा पांच ही गेंद खेले थे व उन्होंने केवल 4 रन ही बनाए थे। पहली गेंद डॉट बॉल फेंकने के बाद जब हार्दिक ने शॉर्ट गेंद फेंकी तो उथप्पा ने बड़ा शॉट लगाने की प्रयास की, लेकिन गेंद हवा में सीधे मिड ऑन पर खड़े मयंक मार्कण्डेय के पास गई। मयंक को इधर उधर भी नहीं हिलना था व गेंद तेज भी नहीं आ रही थी, लेकिन इसके बावजूद मयंक ने यह सरल कैच छोड़ दिया। हार्दिक इससे बहुत ज्यादा नाराज दिखाई दिए व गुस्से में मयंक को कुछ कहते भी दिखाई दिए।

इसके बाद उथप्पा ने 35 गेंदों पर ताबतोड़ 54 रनों की पारी खेली व अपनी टीम का स्कोर 13वें ओवर में ही 112 तक पहुंचा दिया। हालांकि मयंक के लिए राहत की बात यही रही की उन्होंने ही उथप्पा को बेन कटिंग के हाथों कैच आउट कराया। मयंक ने इस मैच में तीन ओवर में 15 रन दिए व उथप्पा का ही विकेट ले सके। मयंक इस आईपीएल में पर्पल कैप की दौड़ में सबसे आगे रह चुके हैं। इस समय वे 13 विकेट लेकर दूसरे जगह पर हैं मजेदार बात यह है कि पहले जगह पर 14 विकेट के साथ हार्दिक पांड्या ही हैं।

गौरतलब है कि कर चुके हैं। मुंबई के मेंटर सचिन ने बोला थी कि आईपीएल के इस सीजन में लेग स्पिनरों ने बल्लेबाजों को सोचने के लिए मजबूर किया है व मयंक ने भी उनमें से एक हैं व बल्लेबाजों को उन पर अधिक ध्यान देना पड़ रहा है। यह मयंक की क्षमता की तारीफ है कि वे अपनी गुगली से इतनी अच्छी तरह छकाने में पास रहे हैं। यह काबिले तारीफ है।

हालांकि मयंक की तारीफ केवल गेंदबाजी की ही थी लेकिन इन दिनों जिस तरह से कैच छूटने पर टीमें मैच पराजय रहीं हैं आगे जाकर उन्हें भारी पड़ सकता है। वहीं दूसरी तरफ कैच मैच भी जिता रहे हैं। मयंक के लिए राहत की बात यह रही की उथप्पा की पारी कोलकाता के लिए कार्य नहीं आई व अंततः मैच मुंबई के पक्ष में ही गया।

About Anand Gopal Chaturvedi

Group Editor / CMD Early News Group

Check Also

टी-20 में सबसे ज्यादा 900 अंक हासिल करने वाले बल्लेबाज बन गए एरोन फिंच

 जिम्बाब्वे में हाल ही में समाप्त हुई टी-20 सीरीज में बल्ले से बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले टी-20 ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

SR Global School