Wednesday , December 19 2018 1:13 AM
Breaking News

रुपये के निर्बल होने से आम आदमी के होते हैं ये 4 नुकसान:

बुधवार के कारोबार में रुपए में  गिरावट देखने को मिली. आज रुपया डॉलर के मुकाबले 6 पैसे टूटकर 68.14 पर खुला. वहीं मंगलवार के कारोबार में रुपया 16 महीने के निचले स्तर के साथ 68.08 पर खुला था. बीते दिन रुपए में आई यह कमजोरी वर्ष 2018 की दूसरी सबसे बड़ी गिरावट रही. इस गिरावट के साथ रुपया 16 महीने के निचले स्तर पर आ गया था. बताते चलें कि 24 जनवरी, 2017 के बाद से यह रुपए का सबसे निचला स्तर है. कई घरेलू  अंतर्राष्ट्रीय कारक रुपए में गिरावट की वजह बने हैं.

Image result for रुपये के निर्बल होने से आम आदमी के होते हैं ये 4 नुकसान:

केडिया कमोडिटी के प्रमुख अजय केडिया ने बताया कि डॉलर इंडेक्स में तेजी समेत तमाम इंटरनेशनल फैक्टर की वजह से रुपए में कमजोरी देखने को मिल रही है. हालांकि डोमेस्टिक फैक्टर रुपए को मजबूती दिखा रहे हैं. ऐसे में बोला जा सकता है कि रुपया निचले स्तर में 68.40  उच्चतम स्तर में 68.50 तक जा सकता है. केडिया ने बोला कि हिंदुस्तान का ट्रेड डेफेसिट बढ़ रहा है, क्रूड इंपोर्ट में मंदी का रुख देखने को मिल रहा है  जियो पॉलिटिकल टेंशन अभी समाप्त होता नजर नहीं आ रहा है. साथ ही डॉलर का आउटलुक पॉजिटिव है, जिसकी वजह से रुपया निर्बल हो रहा है. केडिया ने बोला कि अगर डोमेस्टिक फैक्टर पर बात करें तो आज रुपया मजबूत हो सकता है. ऐसा इसलिए क्योंकि कर्नाटक विधानसभा चुनाव में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है  वही गवर्नमेंट बनाती नजर आ रही है. वहीं अगर GST के संदर्भ में देखें तो इन्फ्लो बढ़ा है. बीते महीने GST का आंकड़ा 1 लाख करोड़ के पार चला गया था. वहीं अगर एक वर्ष तक गवर्नमेंट इसे मेंटेन रख सकता है तो यह रुपए के लिए बेहतर होगा. वहीं मानसून बेहतर है जो कि अच्छा पॉजिटिव फैक्टर हो सकता है. साथ ही केडिया ने यह भी बोला कि ऐसा बिल्कुल नहीं है कि सिर्फ रुपया निर्बल हो रहा है. सिंगापुर  चाइना जैसे इमर्जिंग बाजार की करेंसी भी बेहतर स्थिति में नहीं है उनका भी कमोबेश यही हाल है.

महंगा होगा विदेश घूमना: रुपए के निर्बल होने से अब विदेश की यात्रा आपको थोड़ी महंगी पड़ेगी क्योंकि आपको डॉलर का भुगतान करने के लिए ज्यादा इंडियन रुपए खर्च करने होंगे.फर्ज कीजिए अगर आप न्यूयॉर्क की हवाई सैर के लिए 3000 डॉलर की टिकट हिंदुस्तान में खरीद रहे हैं तो अब आपको पहले के मुकाबले ज्यादा पैसे खर्च करने होंगे.

विदेश में बच्चों की पढ़ाई होगी महंगी: अगर आपका बच्चा विदेश में पढ़ाई कर रहा है तो अब यह भी महंगा हो जाएगा. अब आपको पहले के मुकाबले थोड़े ज्यादा पैसे भेजने होंगे. यानी अगर डॉलर मजबूत है तो आपको ज्यादा रुपए भेजने होंगे. तो इस तरह से विदेश में पढ़ रहे बच्चों की पढ़ाई इंडियन अभिभावकों को परेशान कर सकती है.

क्रूड तेल होगा महंगा तो बढ़ेगी महंगाई: डॉलर के मजबूत होने से क्रूड तेल भी महंगा हो जाएगा. यानि जो राष्ट्र कच्चे ऑयल का आयात करते हैं, उन्हें अब पहले के मुकाबले (डॉलर के मुकाबले) ज्यादा रुपए खर्च करने होंगे. हिंदुस्तान जैसे राष्ट्र के लिहाज से देखा जाए तो अगर क्रूड आयल महंगा होगा तो सीधे तौर पर महंगाई बढ़ने की आसार बढ़ेगी.

डॉलर में होने वाले सभी पेमेंट महंगे हो जाएंगे: वहीं अगर डॉलर निर्बल होता है तो डॉलर के मुकाबले हिंदुस्तान जिन भी मदों में पेमेंट करता है वह भी महंगा हो जाएगा. यानी उपभोक्ताओं के लिहाज से भी यह राहत भरी समाचार नहीं है.

About Anand Gopal Chaturvedi

Group Editor / CMD Early News Group

Check Also

आपके पास है जियो के नए 4जी फीचर फोन जियो फोन 2 को खरीदने का मौका

यदि आप भी 4जी सपोर्ट के साथ एक फीचर फोन की तलाश में हैं तो ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

jewelry shop