Wednesday , December 19 2018 12:34 AM
Breaking News

अनंत चतुर्दशी के मौके पर 23 सितंबर को छप्पन भोग महोत्सव की तैयारी जोरशोर से

गिरि गोवर्धन की तलहटी में अनंत चतुर्दशी के मौके पर 23 सितंबर को होने वाले त्रिदिवसीय अलौकिक छप्पन भोग महोत्सव की तैयारी जोरशोर से की जा रही है। वैसे तो गिर्राज की तलहटी में छप्पन भोग का आयोजन कोई नई परंपरा नही है। समय समय पर विभिन्न संस्थाओं द्वारा छप्पन भोग का आयोजन किया जाता है लेकिन गिर्राज सेवा समिति द्वारा पिछले दो दशक से अधिक समय से लगातार हर साल आयोजित होने वाला छप्पन भोग कई मायनों में निराला होता है इसी कारण इसकी अलग ही पहचान बन गई है।

श्रीगिर्राज सेवा समिति के संस्थापक अध्यक्ष मुरारी अग्रवाल ने सोमवार को बताया कि वर्षा ऋतु के बाद अनन्त चतुर्दशी को आयोजित होने वाले इस प्रथम छप्पन भोग में आयोजन स्थल को कोलकाता के कारीगरों द्वारा मंदिर का स्वरूप दिया गया है। पिछले एक माह से यह कार्य चल रहा है। इस छप्पन भोग की सजावट दर्शनीय होती है क्योंकि इसमें देश के विभिन्न भागों में मौजूद नाना प्रकार के पुष्पों के साथ ही थाईलैंड, मलेशिया समेत कई देशों से विदेशी फूल मंगाए जाते हैं।

उन्होने कहा कि असली दुर्लभ रत्नों हीरा ,पन्ना ,मोती ,नीलम, गोमेद, पुखराज आदि से प्रभु का श्रृंगार द्वारिकाधीश की राजाधिराज शैली में किया जाता है। इस छप्पन भोग के आमंत्रण पत्र से लेकर प्रसाद सामग्री के लिए कच्चे माल को लेकर गोवर्धन जाने वाले अन्नपूर्णा रथ एवं छप्पन भोग के अर्पण की सम्पूर्ण प्रक्रिया विधि विधान से शुभ महूर्त विचारकर होती है।

इस कार्यक्रम में देश के विभिन्न भागों से आनेवाले लाखों तीर्थयात्री हर साल भाग लेते हैं तथा कार्यक्रम स्थल पर आने वाले प्रत्येक भक्त को प्रसाद दिया जाता है। इस आयोजन के लिए गिर्राज तलहटी के प्रवेश मार्ग से आयोजन स्थल तक के क्षेत्र को नई नवेली दुल्हन की तरह सजाया जाता है तथा उसको सुगंधित करने के लिए कन्नौज से मंगाए गए शुद्ध इत्र का कुछ समय के अंतराल में छिड़काव कर वातावरण को सुगंधित बनाया जाता है।

अग्रवाल ने बताया कि छप्पन भोग सामूहिक आराधना का पर्व है। द्बापर में भी भगवान श्रीकृष्ण के कहने पर ब्रजवासियों ने गिर्राज की सामूहिक आराधना की थी। सुरभि गाय ने दुग्धाभिषेक किया था। उस समय व्यंजनों की संख्या 56 हो गई थी लेकिन वर्तमान में इसकी संख्या अधिक हो जाती है क्योंकि भाव यह है कि तेरा तुझको अर्पण क्या लागे मेरा। माना यह जाता है कि जितना अधिक ठाकुर को समर्पण होता है उतनी ही ठाकुर की कृपा की वर्षा भक्तों पर होती है।

उन्होंने बताया कि इस बार इस छप्पन भोग के प्रसाद को जहां विदेशों में लंदन, अमेरिका, यूरोप , कनाडा के देशों में बसे कृष्णभक्तों को भेजा जाएगा वहीं राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, सरसंघचालक एवं सभी प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों को भी इसे भेजा जाएगा। इसके साथ ही इसे शहर के दस हजार व्यापारिक प्रतिष्ठानों में भी वितरित किया जाएगा।

मुरारी अग्रवाल ने बताया कि शुचितापूर्ण तरीके से ठाकुर को अर्पित किया जानेवाला 21 हजार किलो छप्पन भोग विभिन्न व्यंजनों से परिपूर्ण होता है। व्यंजन बनाने के लिए अन्नपूर्णा रथ प्रसाद की कच्ची सामग्री लेकर वैदिक मंत्रों एवं गाजे बाजे के मध्य न केवल गोवर्धन रवाना हो चुका है बल्कि पूर्ण शुचितापूर्ण माहौल में प्रसाद सामग्री का बनना भी शुरू हो गया है।

समिति के महामंत्री अशोक कुमार आढ़ती ने बताया कि तीन दिवसीय छप्पन भोग महोत्सव की शुरुआत 21 सितंबर को सप्तकोषीय परिक्रमा में निकलने वाले ब्रज के डोले के साथ होगी । इसमें लाखों तीर्थयात्री शामिल होते हैं तथा यह आयोजन भावात्मक एकता का नमूना बन जाता है। 22 सितंबर को गंगा, यमुना, गोदावरी, अलखनंदा, ब्रह्मपुत्र ,घाघरा एवं गोमती के पवित्र जल और कामधेनु गाय के दूध केसर शहद और उत्तराखंड की दुर्लभ जड़ी बूटियों से गिर्राज प्रभु का पंचामृत महाभिषेक वैदिक रीति से होगा।

इस तीन दिवसीय छप्पन भोग महोत्सव के भोग अर्पण के संबंध में समिति के अध्यक्ष दीनानाथ अग्रवाल ने बताया कि छप्पन भोग की सामग्री को छबरियों के माध्यम से मानव श्रृंखला बनाकर शुचितापूर्ण तरीके से आयोजन स्थल पर पहुंचाया जाएगा जहां पर उन्हें बड़े करीने से लगाकर ठाकुर को अर्पित किया जाएगा।

आरती के साथ दर्शन दोपहर 3 बजे से रात्रि 12 बजे तक होंगे। रात 12 बजे महाआरती के बाद दर्शन बंद हो जाएंगे। उन्होंने बताया कि छप्पन भोग महोत्सव की पूर्व संध्या में तानसेन संगीत एवं कवि सम्मेलन का भी आयोजन किया गया है। कुल मिलाकर इस आयोजन में कृष्णभक्ति की गंगा प्रवाहित होती है।

About Anand Gopal Chaturvedi

Group Editor / CMD Early News Group

Check Also

सपा सुप्रीमों अखिलेश यादव ने भी मध्यप्रदेश में सरकार बनाने के लिए कांग्रेस को दिया समर्थन

अर्ली न्यूज़/लखनऊ।सपा मुखिया अखिलेश यादव ने मध्यप्रदेश में अपने विजेता एक विधायक का समर्थन कांग्रेस ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

jewelry shop