Tuesday , November 13 2018 6:26 AM
Breaking News

भारत व रूस के बीच एस-400 डिफेंस सिस्‍टम पर दोनों राष्ट्रों के बीच समझौता

अपने दो दिनी दौरे के तहत गुरुवार को हिंदुस्तान पहुंच चुके हैं वह इस दौरान पीएम नरेंद्र मोदी के साथ वार्षिक द्विपक्षीय शिखर मीटिंग करेंगे उनकी इस यात्रा के दौरान दोनों राष्ट्रों के बीच एस-400 वायु रक्षा प्रणाली सहित अंतरिक्ष  ऊर्जा जैसे अहम क्षेत्रों में कई समझौतों पर हस्ताक्षर होने की आसार है माना जा रहा है कि एस-400 डिफेंस सिस्‍टम पर दोनों राष्ट्रों के बीच शुक्रवार को समझौता हो सकता है

Image result for भारत व रूस के बीच एस-400 डिफेंस सिस्‍टम पर आज करार संभव

गुरुवार को विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने यहां पहुंचने पर पुतिन की अगुवानी की उसके बाद पुतिन सीधे लोक कल्याण मार्ग स्थित पीएम निवास गए जहां दोनों नेताओं ने आमने-सामने मीटिंग की बाद में पीएम नरेंद्र मोदी ने उनके लिए एक व्यक्तिगत रात्रिभोज का आयोजन किया

शु‍क्रवार को 19वें भारत-रूस वार्षिक शिखर सम्मेलन होना है सम्मेलन में दोनों नेता विभिन्न द्विपक्षीय, क्षेत्रीय  अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर व्यापक चर्चा करेंगे इनमें मास्को के विरूद्धअमेरिकी प्रतिबंध  आतंकवाद विरोधी योगदान शामिल हैं रूसी राष्ट्रपति के साथ एक उच्चस्तरीय प्रतिनिधिमंडल भी आया है जिसमें उप पीएम यूरी बोरिसोव, विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव  व्यापार एवं उद्योग मंत्री डेनिस मंतुरोव शामिल हैं

बैठक के पहले पीएम मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘राष्ट्रपति पुतिन, हिंदुस्तान में आपका स्वागत है वार्ता को लेकर उत्सुक हूं, इससे भारत-रूस संबंध  प्रगाढ़ होंगे ’’ उनका ट्वीट रूसी भाषा में भी पोस्ट किया गया पुतिन के हिंदुस्तान पहुंचने के बीच रूसी खबर एजेंसी तास ने समाचार दी है कि शुक्रवार को कई द्विपक्षीय समझौते पर हस्ताक्षर किए जाएंगे इनमें हिंदुस्तान को एस-400 वायु रक्षा प्रणाली देने के लिए पांच अरब डॉलर का करार शामिल है

हस्ताक्षर किए जाने वाले समझौतों से रक्षा, अंतरिक्ष, व्यापार, ऊर्जा  पर्यटन जैसे प्रमुख क्षेत्रों में योगदान को बढ़ावा मिलेगा लेकिन मुख्य ध्यान एस-400 मिसाइल रक्षा प्रणाली सौदे पर होगा क्योंकि यदि इस पर हस्ताक्षर किए गए तो इससे रूस से हथियारों की खरीद पर अमेरिकी प्रतिबंधों का उल्लंघन हो सकता है

भारत ने इशारा दिए हैं कि अमेरिकी प्रतिबंधों के बावजूद वह करार की दिशा में आगे बढ़ेगा हिंदुस्तान अपने वायु रक्षा तंत्र को मजबूत करने के लिए लंबी दूरी की मिसाइल प्रणाली खरीदना चाहता है, खासतौर पर लगभग 4,000 किलोमीटर लंबी चीन-भारत सीमा के लिए रूस हिंदुस्तान के प्रमुख हथियार आपूर्तिकर्ताओं में से एक रहा है

सूत्रों ने पहले बोला था कि मोदी  पुतिन ईरान से कच्चे ऑयल के आयात पर अमेरिकी प्रतिबंधों के असर पर भी विचार करेंगे मोदी के साथ वार्ता करने के अतिरिक्त रूसी नेता पुतिन शुक्रवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के साथ भी मीटिंग करेंगे वह प्रतिभाशाली बच्चों के एक समूह के साथ भी वार्ता करेंगे  भारत-रूस व्यापार मीटिंग को संबोधित करेंगे

About Anand Gopal Chaturvedi

Group Editor / CMD Early News Group

Check Also

इंडोनेशिया में सुनामी से मचा हाहाकार, अभी भी हजारों लापता

इंडोनेशिया के उत्तरी सुमात्रा प्रांत में भूस्खलन से सात लोगों की मौत हो गई। आपदा ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

jewelry shop