Tuesday , October 23 2018 4:03 AM
Breaking News

न्यू फरक्का एक्सप्रेस किस वजह से हुई दुर्घटनाग्रस्त, क्यों हुए स्टेशन मास्टर आशीष कुमार निलंबित

न्यू फरक्का एक्सप्रेस को मेन लाइन का सिग्नल दिया तो वह लूप लाइन में पहुंचकर कैसे दुर्घटनाग्रस्त हो गई। इसका जवाब किसी अधिकारी के पास नहीं है। रेल विभाग का अधिकारी चाहे छोटा हो या फिर बड़ा। सब एक ही बात कह रहे हैं कि जांच में जो भी दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

Image result for न्यू फरक्का एक्सप्रेस किस वजह से हुई दुर्घटनाग्रस्त

23 डिब्बों वाली न्यू फरक्का एक्सप्रेस का रायबरेली रेलवे स्टेशन से छूटने के बाद लखनऊ जंक्शन में स्टापेज था। रेलवे सूत्रों का कहना है कि हरचंदपुर रेलवे स्टेशन पर मेन लाइन का सिग्नल दे दिया गया, लेकिन ट्रेन लूप लाइन में पहुंच गई। सवाल उठ रहा है कि मेन ट्रैक से लूप लाइन के प्वाइंट में गड़बड़ी थी या फिर अधिकारियों ने मेन लाइन का सिग्नल देने के बाद लूप लाइन का प्वाइंट नहीं जोड़ा।

यही लापरवाही यात्रियों को भारी पड़ गई। ट्रेन मेन लाइन से लखनऊ जाने के बजाय लूप लाइन में जाकर दुर्घटनाग्रस्त हो गई। हादसे के बाद कई अधिकारी आए, लेकिन किसी ने हादसे का कारण नहीं बताया। इतना जरूर है कि सहायक स्टेशन मास्टर आशीष कुमार को निलंबित करके यह मैसेज देने का प्रयास जरूर किया है कि कहीं न कहीं एसएम की ही लापरवाही है।

हादसे के बाद चाहे रेलवे के चेयरमैन अश्विनी लोहानी रहें हो या फिर डीआरएम सतीश कुमार, एडीआरएम काजी मेराज समेत अन्य अधिकारी। सभी ने एक ही स्वर में कहा कि हादसे के लिए जो भी अधिकारी व कर्मचारी जिम्मेदार होगा, उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। न्यू फरक्का एक्सप्रेस संख्या 14003 के 23 डिब्बों में 15 स्लीपर, तीन जनरल, दो एसएलआर और तीन एसी कोच थे।

उस समय ट्रेन की रफ्तार 100 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार पार बताई जा रही है। हादसे में नौ कोच डैमेज हुए और करोड़ों रुपये का नुकसान। गनीमत रही कि जिस तरह घटनास्थल का मंजर दिखा और राहत कार्य में तेजी, उससे कई लोगों की जान बचाई जा सकी।

रेल सूत्रों का कहना है कि नौ कोचों के साथ सिग्नल यूनिट और ट्रैक को करोड़ों रुपये का नुकसान हुआ है। एक कोच की कीमत कम से कम 50 लाख और इंजन की लागत तीन करोड़ रुपये से ज्यादा है। क्षतिग्रस्त डिब्बों में हादसे के दौरान 500 से ज्यादा यात्रियों का होना बताया जा रहा है।

पांचों मृतकों का हुआ पोस्टमार्टम, सुबह घर ले जाएंगे शव
ट्रेन हादसे में मरे सभी पांच लोगों के शवों का पोस्टमार्टम हो गया। पोस्टमार्टम के बाद शवों को पुलिस की सुपुर्दुगी में दे दिया गया। गुरुवार की सुबह शवों को वाहनों को मृतकों के घर पर ले जाएंगे। साथ में पुलिस कर्मियों को भेजा जाएगा। सीएमओ डॉ. डीके सिंह ने बताया कि शवों का पोस्टमार्टम करा दिया गया है। सुबह शवों को उनके घरों पर भेजे जाएंगे।

मनोज सिन्हा ने ट्रॉमा सेंटर पहुंचकर घायल यात्रियों का लिया हालचाल
रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा हरचंदपुर रेल हादसे के घायल यात्रियों का हालचाल लेने बुधवार शाम करीब सात बजे केजीएमयू के ट्रॉमा सेंटर पहुंचे। उन्होंने रेल हादसे में आतंकी या अन्य किसी तरह की साजिश से इंकार किया। उन्होंने कहा कि प्रथमदृष्टया तकनीकी लापरवाही सामने आई है। जांच रिपोर्ट के बाद जो भी दोषी होगा, उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। रेलवे अधिकारी और कर्मचारी राहत कार्य में जुटे हैं। ट्रैक को दुरुस्त किया जा रहा है।

About Anand Gopal Chaturvedi

Group Editor / CMD Early News Group

Check Also

लोकसभा चुनाव से पहले सपा के इए बड़े नेता ने दिया इस्तीफा

लोकसभा चुनाव से पहले समाजवादी पार्टी में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है, जहां ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

SR Global School