Latest News
अशोक चव्हाण बीजेपी में शामिल, अधूरी रह गई पहली इच्छाकिसान बड़े दिल्ली की और, पुलिस ने छोड़े आंसू गैस, बॉर्डर सीलमिथुन चक्रवर्ती के सीने में तेज दर्द, कोलकाता के अस्पताल में भर्तीपाकिस्तान में जनरल मुनीर ने बांटी किसको कितनी सीट, PMNL-PPP-MQM-P गठबंधन सरकारपाकिस्तान चुनाव परिणाम में देरी के बीच आया इमरान खान का एआई विजय भाषणचौधरी चरण सिंह को मिला भारत रत्न, गदगद जयंत चौधरी, बाटे मिठाइयांलाल कृष्ण आडवाणी को मिलेगा भारत रत्न, प्रधानमंत्री मोदी का ऐलानपाकिस्तानियों ने भारतीय नौसेना जिंदाबाद के लगाए नारे, जान बचाने के लिए किया भारत को शुक्रियाBudget 2024: महिलाओं के लिए किया बड़ा ऐलान, इंफ्रा को दी भारी रकम, किसानों-मिडिल क्लास-युवाओं को बजट में मिला क्या?राहुल की सुरक्षा में चूक, कार का शीशा टूटा, अधीर बोले- किसी ने पत्थर मारा होगा; सुप्रिया ने कहा- सुरक्षा घेरे की रस्सी से टूटा शीशा
Newsभक्ति पोस्टराज्य

गुरुपर्व पर सिख समुदाय ने आगे आ कर मुस्लिमों के लिए गुरूद्वारे के खोले द्वार।

नई दिल्ली : जिस प्रकार एक विशेष समुदाय के लोगों को निशाना बना  प्रत्याड़ित किया जा रहा है और देश की अखंडता को तोड़ कर भाई चारा खराब करने की कोशिश की गई है वो दुखद है, पिछले दिनों मुसलमानों को नमाज पढ़ने से रोका जा रहा था तो वही सिख समुदाय ने आगे आ कर मुस्लिमों के लिए गुरूद्वारे के दरबार उस समय खोल दिए जब जुम्मे की नमाज पढ़ने को लेकर विवाद चल रहा था। जहां एक तरफ नमाज का विरोध किया जा रहा था वहीं दूसरी तरफ मुस्लिम समुदाय गुरूद्वारे में नमाज अदा कर रहे थे।

बड़ी बात यह है कि गुरुपर्व के माैके पर कोई अप्रिय घटना ना हो इसके चलते मुस्लिम समुदाय ने गुरुद्वारे से दूरी बना ली। इस दोनों समुदाओं ने देश के लिए एक नई मिसाल पेश की है।
गुरुद्वारा गुरु सिंह सभा के अध्यक्ष ने शेरदिल सिंह सिद्धू ने बताया कि गुरुद्वारे में नमाज अदा करने की व्यवस्था की है। कोई भी यहां आकर नमाज अदा कर सकता है उन्होंने कहा- ‘हमारे प्रथम गुरु श्री गुरुनानक देव जी ने हमे यही सिखाया है कि अव्वल अल्लाह नूर उपाया, कुदरत दे सब बंदे, एक नूर ते सब जग उपजाया कौन भले को मंदे.’ । उन्होंने कहा कि इबादत से रोकना गुनाह हैं,
हालांकि, नमाज के लिए गुरुद्वारा परिसर की पेशकश किए जाने के फैसले को लेकर सिख समुदाय में सभी की राय एक जैसी नहीं है। स्थानीय निवासियों ने कहा कि वे गुरुद्वारे में नमाज नहीं पढ़ सकते। श्री गुरु ग्रंथ साहिबजी इसकी इजाजत नहीं देते। उनका कहना है कि सभी धर्मों के लोगों का स्वागत है लेकिन गुरुद्वारे में केवल गुरबानी हो सकती है और कुछ नहीं। गुरुद्वारे की संपत्ति का इस्तेमाल ऐसे किसी भी उद्देश्य के लिए नहीं किया जा सकता जो श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी की ‘मर्यादा’ के खिलाफ हो।
गौरतलब है कि शुक्रवार को खुले में जुम्मे की नमाज पढ़ने का कुछ लोगों ने विरोध किया था जिसके बाद सिख समुदाय के सदर बाज़ार गुरुद्वारा समिति ने मुस्लिमों को गुरुद्वारे में नमाज अदा करने की अनुमति दी। इस फैसले के बाद मुस्लिमों ने कहा कि- जिस अखंड भारत का सपना हमारे बुजुर्गों ने देखा था सिख भाइयों की अपील ने उसे न केवल पूरा कर दिया बल्कि गंगा-जमुनी तहज़ीब की जो मिसाल दी जाती रही है, उसे भी सुरक्षित कर दिया।

Show More
[sf id=2 layout=8]

Related Articles

Back to top button